CCTV kya hai | सीसीटीवी कैमरा की सम्पूर्ण जानकारी

CCTV kya hai | सीसीटीवी कैमरा की सम्पूर्ण जानकारी दोस्तों आजकल क्राइम अपने चरम सीमा पर है। आपने देखा होगा कि विश्व के सभी देशों में अपराधिक मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। जैसे कि-आतंकवाद, चोरी डकैती, बलात्कार एवं अन्य तरह के अपराधिक मामले। इन सभी अपराधिक मामलों को देखते हुए सीसीटीवी कैमरा हमारी जिंदगी का एक अभिन्न हिस्सा बन गया है।

आपने देखा होगा कि सभी सार्वजनिक स्थानों जैसे- हवाई अड्डा, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, सरकारी एवं गैर सरकारी हॉस्पिटल, बैंक, होटल्स एंड रेस्टोरेंट्स मैं सीसीटीवी कैमरे लगे हुए होते हैं। यह सीसीटीवी कैमरे सार्वजनिक संपत्ति के अलावा हमारी भी सुरक्षा करते हैं।

CCTV kya hai

 

हम सीसीटीवी कैमरों को अपने घर, मकान एवं ऑफिस में लगा सकते हैं  और हम अपनी जान माल की सुरक्षा कर सकते हैं। दोस्तों आइए जानते ही CCTV kya hai (सीसीटीवी क्या है) और यह कितने प्रकार के होते हैं?

CCTV kya hai (सीसीटीवी क्या है) | CCTV in Hindi

सीसीटीवी का फुल फॉर्म closed circuit television camera होता है। इसका सबसे पहला  इस्तेमाल सन 1942 में जर्मनी के वैज्ञानिक ने रॉकेट लॉन्चिंग की गतिविधि को रिकॉर्ड करने के लिए किया था।  उसके बाद सीसीटीवी का इस्तेमाल पूरे विश्व में सार्वजनिक रूप से किया जाने लगा।

सीसीटीवी कैमरा एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है। सीसीटीवी कैमरे को हिंदी में बंद परिपथ दूरदर्शन कहा जाता है। सीसीटीवी को सर्विलेंस भी कहते हैं। सीसीटीवी कैमरे को डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर में जोड़ते हैं।  डिटेल वीडियो रिकॉर्डर (डीवीआर) में एक हार्ड डिस्क होता है।

इसे हम स्टोरेज डिवाइस भी कहते हैं। हार्ड डिस्क सीसीटीवी कैमरे द्वारा रिकॉर्ड की गई सभी गतिविधि को वीडियो के फॉर्मेट में सेव करके रखता है। जिसे हम बाद में किसी भी अपराधिक गतिविधि की जांच करने के लिए इस वीडियो को प्ले बैक कर सकते हैं।

सीसीटीवी कैमरे द्वारा हम अपने मकान ऑफिस को हम किसी दूरस्थ स्थान से भी रिमोट एक्सेस के द्वारा देख सकते हैं। आजकल सीसीटीवी कंपनियों ने एडवांस टेक्नोलॉजी के कैमरे भी मैन्युफैक्चरिंग किए हैं।

जिसमें आपको फुल एचडी कैमरा, आईपी कैमरा, एवं वायरलेस कैमरा मिलते हैं।  इन एडवांस टेक्नोलॉजी के कमरों को लगाकर हम अपने घर मकान ऑफिस एवं अन्य स्थानों की सुरक्षा कर सकते हैं।

You May Like 

घर के लिए 5 सबसे अच्छे वायरलेस सीसीटीवी कैमरा

भारत में सीसीटीवी कैमरा लगाने के क्या नियम हैं? जानिए

सीसीटीवी कैमरा लगाने में कितना खर्च आता है?

अब बिजली के बिना भी चलेगा यह सीसीटीवी कैमरा! जानिए

सीसीटीवी कैमरा कितने प्रकार के होते हैं (CCTV Camera Types in Hindi)

सभी लोगों के मन में यही सवाल होता है कि Technology के आधार पर सीसीटीवी कैमरा कितने प्रकार के होते हैं ?आज हम बताते हैं कि सीसीटीवी कैमरा टेक्नोलॉजी के आधार पर चार प्रकार के होते हैं।

  • एनालॉग सीसीटीवी कैमरा
  • आईपी सीसीटीवी कैमरा
  • एचडी सीसीटीवी कैमरा
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरा

एनालॉग सीसीटीवी कैमरा (Analog CCTV Camera)

यह सीसीटीवी कैमरे का सबसे पुराना वर्जन है। यह एक ओल्ड टेक्नोलॉजी पर आधारित है।  एनालॉग कैमरे को टेलीविजन लाइन द्वारा  डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर से जोड़ा जाता है।  डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर एनालॉग सिगनल को डिजिटल सिगनल में बदलकर टेलीविजन है या मॉनिटर पर कैमरे की स्क्रीनिंग को दर्शाती है। यह वीडियो रिकॉर्डिंग करने की सबसे पुरानी तकनीक है।

एनालॉग कैमरे के फायदे

  • एनालॉग कैमरा एचडी कैमरा की अपेक्षा सस्ते होते हैं।  क्योंकि यह पुरानी टेक्नोलॉजी पर आधारित होते हैं।
  • एनालॉग कैमरा को आसानी से इंस्टॉल किया जा सकता है।
  • एनालॉग कैमरा छोटे से छोटे मार्केट में भी आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं

एनालॉग कैमरों के नुकसान

  • एनालॉग सीसीटीवी कैमरा की वीडियो क्वालिटी हाई डेफिनेशन कैमरों की अपेक्षा कम होती है।
  • एनालॉग कैमरा केवल 720 पिक्सेल तक ही सपोर्ट करते हैं।
  • यह पुरानी टेक्नोलॉजी पर आधारित होते हैं। इसलिए हर कोई व्यक्ति इन्हें खरीदना नहीं चाहता।
  • यह कैमरा नाईट विज़न नहीं होते है।

आईपी कैमरा (IP CCTV Camera)

IP CCTV कैमरे का फुल फॉर्म इंटरनेट प्रोटोकोल  कैमरा होता है।  साथ में एक डिजिटल कैमरा भी होता है। इसकी खास बात होती है कि यह एक इंटरनेट प्रोटोकोल पर वर्क करता है।  इसलिए हम इसको आईपी कैमरा कहते हैं।  इस कैमरे को कनेक्ट करने के लिए हमें नेटवर्क बायर की जरूरत होती है।

आईपी कैमरे को नेटवर्क वायर के द्वारा नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर (NVR) से जोड़ा जाता है।  यह सीसीटीवी कैमरा की एडवांस टेक्नोलॉजी है। इस प्रकार के आईपी सीसीटीवी कैमरा आपको सार्वजनिक स्थानों जैसे एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, होटल्स एंड रेस्टोरेंट्स, बैंक, एवं सरकारी दफ्तरों में मिलते हैं।

IP कैमरा की पिक्चर क्वालिटी फुल एचडी में होती है, इसे कई गुना जूम भी किया जा सकता है। आईपी कैमरे का एक अलग से खुद का आईपी एड्रेस होता है। इस आईपी एड्रेस का इस्तेमाल करके हम दूसरे स्थान पर रिमोट एक्सेस के द्वारा भी आईपी कैमरे को एक्सेस कर सकते हैं।

आईपी कैमरा के फायदे

  • IP कैमरा की वीडियो क्वालिटी एनालॉग सीसीटीवी कैमरा की अपेक्षा बहुत क्लियर होती है।
  • यह सीसीटीवी कैमरा 4K पिक्सल तक सपोर्ट करते हैं।
  • IP कैमरा को एनबीआर में आईपी एड्रेस के द्वारा एक्सेस किया जा सकता है।
  • आईपी कैमरा की इंस्टॉलेशन में अधिक नेटवर्क वायर की जरूरत नहीं होती।
  • नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर को  रिमोट एक्सेस के द्वारा आसानी से ऑनलाइन किया जा सकता है।
  • आईपी कैमरा नेटवर्क स्विच के द्वारा  एक्सटेंड किया जा सकता है
  • यह कैमरा कलरफुल एंव नाईट विज़न होते है।

आईपी कैमरा के नुकसान

  • आईपी कैमरा एनालॉग कैमरा एवं एचडी कैमरा भी अपेक्षा महंगे होते हैं।
  • इनका इंस्टॉलेशन करना काफी जटिल होता है।

एचडी कैमरा (HD CCTV Camera)

एनालॉग कैमरा का एडवांस वर्जन है। एचडी कैमरा हाई डेफिनेशन कैमरे होते हैं जो एक उच्च गुणवत्ता की वीडियो क्वालिटी प्रदान करते हैं। एचडी कैमरे को हाई डेफिनेशन डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर से (3 +1) सीसीटीवी बायर द्वारा जुड़ा जाता है। हाई डेफिनेशन कैमरे 1080 पिक्सेल से लेकर 1920 पिक्सेल तक सपोर्ट करते हैं। हाई डेफिनेशन कैमरा मार्केट में आसानी से मिल जाते हैं।

हाई डेफिनेशन कैमरों के फायदे

  • एचडी कैमरा एनालॉग कैमरा का ही एक एडवांस वर्जन है।
  • यह कैमरा कलरफुल एंव नाईट विज़न सपोर्ट करते है।
  • एचडी कैमरा की वीडियो क्वालिटी एनालॉग कैमरा की अपेक्षा अधिक क्लियर होती है।
  • हाई डेफिनेशन कैमरा 720 पिक्सेल से लेकर 1920 पिक्सेल तक सपोर्ट करते हैं।
  • एचडी कैमरा को डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर से आसानी से कनेक्ट किया जा सकता है।
  • हाई डेफिनेशन कैमरा की वीडियो रिकॉर्डिंग एचडी क्वालिटी में ही रिकॉर्ड होती है।
  • एचडी डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर को ऑनलाइन करना काफी आसान होता है।
  • हाई डेफिनेशन कैमरा को रिमोट एक्सेस के द्वारा कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है।

एचडी कैमरा के नुकसान

  • हाई डेफिनेशन कैमरा एनालॉग कैमरा की अपेक्षा महंगे होते हैं।

वायरलेस सीसीटीवी कैमरा (Wireless CCTV Camera)

वॉयरलैस सीसीटीवी कैमरा इंटरनेट प्रोटोकोल और वाईफाई टेक्नोलॉजी के आधार पर कार्य करता है।  इस कैमरे को आप सिंगल कैमरा भी यूज कर सकते हैं।  इस तरह के कैमरे को लगाने के लिए आपको अलग से डीवीआर या एनबीआर की जरूरत नहीं पड़ती।  वायरलेस कैमरे को हम वाईफाई के द्वारा अपने मोबाइल से कनेक्ट कर सकते हैं। वायरलेस सीसीटीवी कैमरा 2 मेगापिक्सल से लेकर 8 मेगापिक्सल का मार्केट में मिल जाते हैं।

वायरलेस कैमरा के फायदे

  •  इन कैमरों को आप आसानी से अपने घर पर ही इंस्टॉल कर सकते हैं।
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरा के लिए सीसीटीवी बायर डालने का कोई झंझट नहीं रहता।
  • कैमरा को आईपी ऐड्रेस के द्वारा नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर में आसानी से कनेक्ट किया जा सकता है।
  • वाईफाई कैमरों में अलग से स्टोरेज  की जरूरत नहीं होती, वीडियो रिकॉर्डिंग सेव करने के लिए एसडी कार्ड का उपयोग किया जाता है।
  • वायरलेस  सीसीटीवी कैमरा को आसानी से अपने मोबाइल से कनेक्ट किया जा सकता है।
  • यह कैमरा भी कलरफुल एंव नाईट विज़न होते है।

वाईफाई कैमरा के नुकसान

  • वाईफाई कैमरा की वीडियो रिकॉर्डिंग दो से तीन दिन तक ही रहती है।
  • एसडी कार्ड का यूज़ होता है। इसलिए रिकॉर्डिंग अधिक दिनों तक स्टोर नहीं कर सकते।
  • वाईफाई कैमरा के रिमोट एक्सेस मे डिस्कनेक्टिविटी का प्रॉब्लम रहता है।

सीसीटीवी कैमरा कितने प्रकार के होते हैं | CCTV kya hai

डोम कैमरा

यह कैमरा गुंबद के आकार का होने के कारण इस सीसीटीवी कैमरा को डॉम कैमरा कहा जाता है।  इस कैमरे का एंगल वाइड होता है जोकि एक बड़ी एरिया कवर करता है। इसलिए इसे ऑफिस, दुकान एवं घरों में यूज किया जाता है।  इस कैमरे का यूज़ इंडोर में किया जाता है।  क्योंकि यह सीसीटीवी कैमरा वाटर प्रूफ नहीं होता। यह कैमरा 2 मेगापिक्सल से लेकर 8 मेगापिक्सल तक मार्केट में आसानी से मिल जाता है।

Dome Camera | CCTV kya hai

कैमरे का उपयोग – डोम सीसीटीवी कैमरा का इस्तेमाल सरकारी एवं गैर सरकारी बैंक, हॉस्पिटल, ऑफिस,घर, मकान एवं दुकानों में किया जाता है।

बुलेट कैमरा

इस प्रकार के कैमरे सीसीटीवी कंपनियां आउटडोर यूज़ के लिए बनाते हैं। बुलेट कैमरा वाटरप्रूफ होते हैं। बुलेट आउटडोर सीसीटीवी कैमरा पर सूर्य की रोशनी एवं बारिश का कोई फर्क नहीं पड़ता। यह कैमरा सिलेंडर की तरह दिखता है इसलिए इस सीसीटीवी कैमरा को बुलेट कैमरा नाम दिया गया।  यह कैमरा फुल एचडी एवं कलरफुल तथा नाइट विजन होते हैं।

cctv camera types in hindi

बुलेट कैमरा के उपयोग – यह कैमरा आउटडोर के लिए यूज किए जाते हैं जैसे कि सार्वजनिक स्थानों पर, चौराहों पर, घर एवं दुकान के बाहर आदि।

सीमाउंट सीसीटीवी कैमरा | CCTV kya hai

यह सीसीटीवी कैमरा बुलेट कैमरा की तरह ही दिखता है।  इस कैमरे को भी आउटडोर के यूज़ के लिए बनाया गया है। इस कैमरे की रेंज 40 मीटर से 50 मीटर तक होती है।  इसमें 12 एमएम का लेंस यूज किया जाता है।  इसलिए इस कैमरे के द्वारा हम अधिक दूरी तक बिल्कुल साफ वीडियो देख सकते हैं।

C -Mount Camera

उपयोग – इस कैमरे पर सूर्य की रोशनी बारिश एवं बर्फ का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। इस कैमरे का यूज़  बर्फीले इलाकों की कंपनियां, फैक्ट्रियों, गोदामों में किया जाता है।

पीटीजेड कैमरा (Pan tilt zoom CCTV camera)

यह कैमरा 4 मेगापिक्सल से लेकर 108 मेगापिक्सल तक होता है। इस कैमरे को किसी भी दिशा में घुमाया जा सकता है।  इनमें Pan tilt zoom ऑप्शन उपलब्ध होते हैं। इस कैमरे को कई गुना जूम  किया जा सकता है।  इस कैमरे को जरूरत पड़ने पर TOUR मोड़ पर भी डाल दिया जाता है। TOUR मोड सेट करने पर यह कैमरा ऑटोमेटिक सभी दिशा में घूमता है।

Pan tilt zoom CCTV camera | CCTV kya hai

उपयोग – पी टी जेड कैमरा का उपयोग सिनेमाघर, शॉपिंग मॉल, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, एवं बस स्टैंड मैं किया जाता है।

डे/नाइट सीसीटीवी कैमरा | CCTV kya hai

यह कैमरा कम रोशनी में भी काम करता है लेकिन अधिक अधेरे में अच्छी वीडियो क्वालिटी नहीं देता।  इसलिए इस कैमरे द्वारा दिन के समय कलरफुल वीडियो बनती है एवं रात के समय ब्लैक एंड वाइट वीडियो बनती है।  इस कैमरे को ज्यादातर आउटडोर में यूज किया जाता है।

CCTV kya hai

एनपीआर/एलपीआर कैमरा

इस तरह के सीसीटीवी कैमरा को ट्रैफिक रूल्स को फॉलो करने तथा टोल गेट एवं पार्किंग के लिए उपयोग में लाया जाता है।  इस कैमरे की खासियत होती है कि यह कैमरा नंबर प्लेट को भी पढ़ लेता है।  इसलिए चौराहों पर ट्रैफिक पुलिस द्वारा गाड़ियों के नंबर  इस कैमरे द्वारा आसानी से ट्रेस किए जाते हैं।  गलत ड्राइविंग या रूल तोड़ने पर उनका चलाना कर दिया जाता है।

हाई डेफिनेशन / गार्ड प्लस सीसीटीवी कैमरा

यह कैमरा विशेष प्रकार से रात के लिए बनाया गया है। इस कैमरे की खास बात यह है कि रात को लाइट जाने पर भी है कलरफुल वीडियो प्रदान करता है, इसमें अलग से एक एलईडी लगी हुई होती है।  इस कारण है रात के समय भी कलर रिकॉर्डिंग होती है।  यह कैमरा सीपी प्लस कंपनी द्वारा डिजाइन किया गया है।

cctv camera in hindi

इंफ्रारेड डोम सीसीटीवी कैमरा | CCTV kya hai

कैमरे को विशेषकर रात के लिए बनाया गया है क्योंकि इसमें इंफ्रारेड टेक्नोलॉजी का यूज होता है।  इस वजह से यह रात में बिल्कुल क्लियर एवं ब्लैक एंड वाइट पिक्चर क्वालिटी देता है।  जबकि दिन के समय यह सीसीटीवी कैमरा कलरफुल पिक्चर क्वालिटी प्रदान करता है।  इस कैमरे का आकार डोम  कैमरे की भांति ही होता है। लेकिन यह डॉम कैमरे से महंगा होता है।

Night Vision CCTV Camera

उपयोग – इंफ्रारेड सीसीटीवी कैमरे का प्रयोग कम रोशनी वाले या अधूरे स्थानों में यूज किया जाता है।

स्पाई कैमरा (Spy Camera)

स्पाई कैमरा आकार में काफी छोटे होते हैं।  इसलिए इन स्पाई कैमरा को आसानी से छुपाया जा सकता है। इन कैमरा का उपयोग ज्यादातर गुप्त मीटिंग एवं खुफिया एजेंसियों द्वारा उपयोग में लाया जाता है। यह सीसीटीवी कैमरा मार्केट में आसानी से ₹300 से लेकर ₹5000 तक आसानी से मिल जाते हैं।

सीसीटीवी के फायदे  Benefits of CCTV 

देश में बढ़ते हुए क्राइम को देखकर सीसीटीवी कैमरा लगवाना बहुत जरूरी है। सीसीटीवी आजकल बड़े-बड़े लोगों का फैशन भी हो गया है इसके अलावा सीसीटीवी कैमरा लगवाने के कई फायदे हैं

  • सीसीटीवी कैमरा के द्वारा आप अपने घर, मकान, दुकान, ऑफिस, एवं गोदामों की सुरक्षा कर सकते हैं।
  • CCTV सभी वीडियो फुटेज लाइव दिखाता है बाद में फिर से प्ले करके भी देख सकते हैं।
  • सीसीटीवी कैमरे को ऑनलाइन करने से आप किसी दूरस्थ स्थान से भी अपने घर या मकान की लोकेशन देख सकते हैं।
  • CCTV के द्वारा आप अपनी प्रॉपर्टी, दुकान, या गोदाम को अपने घर बैठे ही देख सकते हैं।
  • सीसीटीवी कैमरा के द्वारा आप अपनी फैक्ट्री में मजदूरों पर नजर रख सकते हैं।
  • चौराहों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की वीडियो फुटेज निकालकर पुलिस अपराधिक मामलों को ट्रेस करती है।
  • सीसीटीवी के द्वारा किसी आतंकी संगठन, चोरी डकैती, बलात्कार एवं अन्य अपराधिक मामलों की निगरानी की जा सकती है।
  • CCTV कैमरे लगाने से आपको अपने मकान की सुरक्षा करने के लिए किसी सिक्योरिटी गार्ड की जरूरत नहीं पड़ती।
Main components of CCTV camera in Hindi
  • CCTV camera (analogue  HD camera, IP Camera)
  • Video recorder (DVR or NVR)
  • CCTV wire (3 + 1 CCTV wire,  Network cable)
  • Storage device (Hard disk)
  • Power supply for CCTV
  • A display unit (TV, LCD, Monitor)
  • BNC and DC connector

सीसीटीवी कैमरा को कहां कहां लगाया जा सकता है?

CCTV kya hai अपने इस आर्टिकल के माध्यम से जाना लेकिन CCTV को किन -२ स्थानों पर लगाया जा सकता है? तो आइये जानते है।  वैसे तो सीसीटीवी कैमरे को अपराधिक गतिविधियों को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है।  लेकिन कुछ ऐसे स्थान हैं जहां सीसीटीवी कैमरे का उपयोग बहुत जरूरी होता है। जैसे कि

  • Airport
  • Railway station
  • bus stand
  • Government and non government hospital
  • Hotel and restaurants
  • Banks and Finance sector
  • Near traffic signal
  • Police station
  • Government offices
  • Company and factory
  • Warehouse
  • City Malls
  • cinema hall
  • City roads
  • Highway Roads
  • City Parks
  • Petrol pump
  • Car parking
  • School
  • Religious place
  • Home and house

>CPPlus सीसीटीवी कैमरा को मोबाइल से कनेक्ट कैसे करें?

>Hikvision सीसीटीवी कैमरा को मोबाइल से कनेक्ट कैसे करें?

हैलो दोस्तों, मुझे उम्मीद है की इस आर्टिकल के माध्यम से आपको CCTV kya hai | सीसीटीवी कैमरा कितने प्रकार के होते हैं एवं सीसीटीवी कैमरा की सम्पूर्ण जानकारी मिल गई होगी। यदि यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा हो तो कृपया कॉमेंट करके बताए।

साथ ही इस आर्टिकल को अपने सभी दोस्तों को भी share करे। इसके अलावा भी अगर कोई जानकारी चाहते है या कोई प्रश्न है, तो प्लीज Comment box में जाकर अपना कमेंट दर्ज करे। धन्यबाद!

1Shares
error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock