CCTV kya hai | CCTV in Hindi – पूरी जानकारी

CCTV kya hai (सीसीटीवी क्या है) | CCTV in Hindi – आमतौर पर सीसीटीवी का उपयोग अपराधिक गतिविधियों को रोकने एवं उनका पता लगाने के लिए किया जाता है। सीसीटीवी कैमरा का उपयोग सार्वजनिक जगह जैसे हॉस्पिटल, बैंकों, सरकारी दफ्तर, रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डा एवं  बस स्टैंडों  में किया जाता है।

इसके अलावा ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों का रिकॉर्ड निकालने के लिए बड़े-बड़े महानगरों तथा स्मार्ट शहरों के मुख्य चौराहों पर सीसीटीवी लगाया जाता है।

CCTV kya hai

Contents hide

CCTV kya hai | CCTV in Hindi

सीसीटीवी एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है। सीसीटीवी का इस्तेमाल सबसे पहले जर्मनी में जर्मन इंजीनियर Walter Bruch द्वारा सन 1942 में किया गया था। जर्मनी में इसका उपयोग V2 रॉकेट लॉन्चिंग की सभी गतिविधि को देखने के लिए किया गया था। उसके बाद इसका उपयोग विश्व के सभी देशों में सभी सार्वजनिक जरूर जगहों पर होने लगा है।

CCTV ka full form in Hindi | सीसीटीवी को हिंदी में क्या कहते हैं ?

CCTV का फुल फॉर्म (Closed-Circuit Television) होता है। सीसीटीवी एक क्लोज सर्किट होता है। इसलिए इसको क्लोज सर्किट टेलीविजन कहा जाता है। वही सीसीटीवी को हिंदी भाषा में बंद परिपथ दूरदर्शन कहते हैं।

सीसीटीवी कैमरा द्वारा रिकॉर्ड की हुई वीडियो या लाइव वीडियो को टेलीविजन या कुछ लिमिटेड उपकरणों पर ही दिखाया जा सकता है। जो एक क्लोज सर्किट होता है। सीसीटीवी वीडियो रिकॉर्डिंग देखने के लिए डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर (DVR) को सिक्योरिटी पासवर्ड के द्वारा ही लॉगिन किया जा सकता है।

इसलिए सीसीटीवी कैमरे से जुड़े डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर को कुछ लिमिटेड लोग ही एक्सेस कर सकते हैं। सीसीटीवी वीडियो को पब्लिकली ब्रॉडकास्ट भी नहीं किया जाता। इसलिए सीसीटीवी कैमरे को क्लोज सर्किट टेलीविजन कहते हैं।

>Top 10 CCTV Camera Brands In India 2020

सीसीटीवी कैमरा कितने प्रकार के होते हैं | Types of CCTV in Hindi

टेक्नोलॉजी के आधार पर सीसीटीवी मुख्यतः चार प्रकार के होते हैं। जो इस प्रकार है

  • एनालॉग सीसीटीवी कैमरा (Analog CCTV Camera)
  • HD सीसीटीवी कैमरा (HD CCTV Camera)
  • आईपी सीसीटीवी कैमरा (IP CCTV Camera)
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरा (Wireless CCTV Camera)

 

एनालॉग सीसीटीवी कैमरा (Analog CCTV Camera) 

एनालॉग सीसीटीवी कैमरे का सबसे पुराना फॉर्मेट है। जोकि एनालॉग सिग्नल पर आधारित है। एनालॉग सीसीटीवी को कनेक्ट करने के लिए 3+1 सीसीटीवी बायर की जरूरत होती है। सीसीटीवी वायर के द्वारा एनालॉग कैमरे को बीएनसी कनेक्टर की सहायता से डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर से कनेक्ट करते हैं।

डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर एनालॉग सीसीटीवी कैमरे से प्राप्त एनालॉग सिग्नल को डिजिटल सिंगल में परिवर्तित करता  है। डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर से कनेक्ट हुए टेलीविजन को डिजिटल सिग्नल भेजता है।

टीवी डिजिटल सिग्नल को स्क्रीन (सीसीटीवी डिस्प्ले)में परिवर्तित करती है। एनालॉग सीसीटीवी कैमरे को डीवीआर से कनेक्ट करने के लिए प्रत्येक कैमरे के लिए अलग-अलग बायर कनेक्ट करनी होती है।

यह वीडियो रिकॉर्डिंग की सबसे पुरानी तकनीक है।  एनालॉग सीसीटीवी कैमरों के लिए डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर में 500 जीबी हार्ड डिस्क लगाकर लगभग 1 महीने तक का वीडियो डाटा स्टोर कर सकते हैं। एनालॉग सीसीटीवी कैमरे से अधिकतम 720 पिक्सेल  का वीडियो रिकॉर्डिंग कर सकते हैं। यह वीडियो रिकॉर्डिंग का सबसे सस्ता इलेक्ट्रॉनिक सीसीटीवी डिवाइस है।

एनालॉग  सीसीटीवी कैमरों के फायदे | CCTV kya hai

  • Analog CCTV कैमरे पुराने टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं।  जो एक साधारण टेक्नोलॉजी है।  मार्केट में अब हाई डेफिनेशन कैमरे आने की वजह से एनालॉग कैमरा की कीमत सस्ती हो चुकी है। इसलिए आप एनालॉग कैमरों को 400 से ₹600 के बीच में आसानी से खरीद सकते हैं।
  • एनालॉग कैमरा को हम आसानी से अपने घर मकान या ऑफिस में सेटअप कर सकते हैं।
  • Analog CCTV कैमरा के मेंटेनेंस का खर्चा बहुत कम होता है।
  • एनालॉग कैमरों की रिकॉर्डिंग करने के लिए कम स्टोरेज की जरूरत पड़ती है क्योंकि एनालॉग कैमरा अधिकतम 720 पिक्सेल तक ही सपोर्ट करते हैं। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

एनालॉग कैमरों के नुकसान

Analog CCTV  कैमरे 720 पिक्सेल तक ही सपोर्ट होने के कारण पिक्चर क्वालिटी  ज्यादा अच्छी नहीं होती है।

हाई डेफिनेशन सीसीटीवी कैमरा (HD CCTV Camera)

एचडी कैमरा को हाई डेफिनेशन कैमरा भी बोलते हैं।  एचडी कैमरा एनालॉग कमरों का लेटेस्ट वर्जन है।  एचडी कैमरा की  पिक्चर क्वालिटी  720 पिक्सेल से लेकर 4K तक होती है।

एचडी सीसीटीवी कैमरों में 1 मेगापिक्सल से लेकर 8 मेगापिक्सल तक के कैमरे मिलते हैं।  एचडी कैमरा की पिक्चर क्वालिटी कलर में होती है।  अतः इनकी हाई डेफिनेशन पिक्चर क्वालिटी होने की वजह से इन कैमरों के लिए अधिक स्टोरेज की जरूरत पड़ती है।

हाई डेफिनेशन कैमरा में सभी तरह की कैमरे मिलते हैं जैसे कि डॉम कैमरा, बुलेट कैमरा, c- माउंट  कैमरा  एवं स्पाई कैमरा आदि हैं। हाई डेफिनेशन कैमरा की अच्छी पिक्चर क्वालिटी को देखने के लिए फुल एचडी टीवी लगाना अनिवार्य है। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

एचडी कैमरा लगाने के फायदे 

  • एचडी कैमरा में पिक्चर क्वालिटी कलर एवं क्लियर होती है।
  • यह 720  पिक्सेल से लेकर  4K तक सपोर्ट करता है।
  • हाई डेफिनेशन कैमरा को आसानी से मोबाइल पर रिमोट एक्सेस के द्वारा  एक्सेस एवं देख सकते हैं।
  • एचडी कैमरा की पिक्चर क्वालिटी अच्छी होने के कारण अपराधिक गतिविधियों में DVR Backup को  ट्रेस करने में आसानी होती है।

आईपी सीसीटीवी कैमरा (IP CCTV Camera)

आईपी सीसीटीवी कैमरा आईपी एड्रेस पर आधारित होते हैं। आईपी का फुल फॉर्म इंटरनेट प्रोटोकोल होता है। आईपी ऐड्रेस किसी भी डिवाइस का इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस होता है। एक विशेष प्रकार का आईपी ऐड्रेस जिसके माध्यम से हम उस डिवाइस को इंटरनेट पर कहीं से भी रिमोट एक्सेस कर सकते हैं।

अब सीसीटीवी का एडवांस वर्जन आईपी सीसीटीवी कैमरा है। जो कि आई पी एड्रेस पर आधारित होते हैं। आईपी सीसीटीवी कैमरा  की वीडियो क्वालिटी फुल एचडी  में होती है। जो 1080 पिक्सेल से लेकर 4k तक सपोर्ट करती है।

आईपी सीसीटीवी कैमरों में नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर  का इस्तेमाल होता है।  एवं कैमरों की कनेक्टिविटी के लिए इसमें नेटवर्क  वायर जैसे कैट – 3, कैट – 5, कैट – 6  का उपयोग होता है। तथा  कनेक्टर के रूप में rj45 कनेक्टर का प्रयोग किया जाता है।  आईपी सीसीटीवी कैमरे को आईपी एड्रेस  द्वारा सर्च करके  नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर से कनेक्ट किया जाता है।

IP CCTV कैमरा की रिकॉर्डिंग  डायरेक्ट डिजिटल फॉर्मेट  में होती है।  इसलिए इनको डिजिटल कैमरे भी कहा जाता है।  आईपी कैमरा में वीडियो क्वालिटी अच्छी होने के कारण  रिकॉर्डिंग भी अच्छी वीडियो क्वालिटी में होती है।  इस तरह के कैमरे को ज्यादातर एयरपोर्ट, रेलवे एवं बैंकों तथा हॉस्पिटलों में उपयोग किया जाता है। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

आईपी सीसीटीवी कैमरों के फायदे | CCTV kya hai

  • आईपी सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग एनालॉग कमरों की अपेक्षा उच्च गुणवत्ता की होती है।
  • IP सीसीटीवी कैमरों को इंटरनेट  के माध्यम से रिमोट एक्सिस किया जा सकता है।
  • आईपी कैमरा को एनालॉग कैमरो की अपेक्षा अधिक ज़ूम किया जा  सकता है।  जिससे अपराधिक मामलों में वीडियो के द्वारा अपराधियों को ट्रेस करने में मदद मिलती है।
  • IP कैमरा में सीसीटीवी वायरिंग का अधिक झंझट नहीं होता।  इसमें एक कैमरे से दूसरे कैमरे को कनेक्ट करने के लिए बीच में नेटवर्क स्विच की सहायता से कनेक्ट किया जा सकता है।
  • आईपी सीसीटीवी कैमरा की  लाइफ  एनालॉग कैमरा  की अपेक्षा अधिक होती है।

आईपी कैमरा के नुकसान

  • IP कैमरा एनालॉग कैमरा की अपेक्षा थोड़े महंगे होते हैं।  जिससे आम  नागरिक अपने घरों में लगाने के लिए हिचकिचाते हैं।
  • आईपी कैमरा के लिए अधिक स्टोरेज की जरूरत होती है क्योंकि हाई डेफिनेशन वीडियो होने के कारण यह अधिक स्थान  घेरती है।

वॉयरलैस सीसीटीवी कैमरा (Wi-Fi CCTV Camera) 

वॉयरलैस सीसीटीवी कैमरा वायरलेस फिडेलिटी (Wi-Fi) पर आधारित कैमरा होता है।  वायरलेस कैमरों को किसी मोबाइल या टीवी से कनेक्ट करने के लिए आईपी एड्रेस की जरूरत पड़ती है।  इसलिए इस तरह के कैमरे भी  इंटरनेट प्रोटोकोल पर आधारित कैमरे होते हैं। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

इसमें किसी प्रकार की लाइन या तार की जरूरत नहीं होती है।  यह सिर्फ वायरलेस टेक्नोलॉजी पर आधारित होते हैं।  इस तरह के कैमरों को कनेक्ट करने के लिए भी इंटरनेट या वाईफाई राउटर की जरूरत पड़ती है।

वायरलेस सीसीटीवी कैमरा भी 720 पिक्सेल से लेकर फुल एचडी तक मिलते हैं।  इसमें वीडियो रिकॉर्डिंग के लिए  कैमरे के अंदर एसडी कार्ड का ऑप्शन होता है।  जिसे आप अपनी आवश्यकता के अनुसार घटा या बढ़ा सकते हैं।  वायरलेस सीसीटीवी कैमरा का उपयोग अधिकतर छोटे दुकानदारों, कार पार्किंग,  घरों एवं छोटी जगहों के लिए किया जाता है। CCTV kya hai

वॉयरलैस सीसीटीवी कैमरा के फायदे

  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरों को कनेक्ट करने के लिए  ज्यादा झंझट की जरूरत नहीं होती इनको आप आसानी से घर पर ही इंस्टॉल कर सकते हैं।
  • Wireless सीसीटीवी कैमरों का बजट एनालॉग कैमरो की अपेक्षा कम होता है इसलिए इस तरह के कैमरों को आम नागरिक भी अपने घरों या मकानों में लगा सकते हैं।
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरा में रिकॉर्डिंग के लिए एसडी कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है जो कि एक सस्ता ऑप्शन है।

वायरलेस सीसीटीवी कैमरा के नुकसान

  • Wireless सीसीटीवी कैमरों में कभी-कभी कनेक्टिविटी की प्रॉब्लम आती है। CCTV kya hai | CCTV in Hindi
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरों में स्टोरेज कम होने के कारण वीडियो रिकॉर्डिंग का बैकअप  2 से 3 दिन तक ही रहता है।

> Best Wi-fi Security Camera for Home in India

सीसीटीवी कैमरा के प्रकार | CCTV Camera Types in Hindi

डोम कैमरा (Dome Camera) –   इस कैमरे की बनावट डोमाकार होने की वजह से इसको डोम कैमरा  कहा जाता है।  यह कैमरा वाटर प्रूफ ना होने के कारण इसको इंंडोर कैमरा भी कहते हैं। डोम कैमरा ज्यादातर छोटे मकानों, घर एवं  स्मार्ट ऑफिस एवं पार्किंग के लिए उपयोग किया जाता है। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

Dome Camera

इस कैमरे का लेंस वाइड  होने की वजह से इसको मकान या ऑफिसों के कोने में लगाया जाता है।  इस तरह के कैमरे  हाई डेफिनेशन नाइट विजन एवं फुल कलर डिस्पले तथा मोशन सेंसर होते हैं। इसका इस्तेमाल कम दूरी  के लिए किया जाता है।

डोम कैमरा वाटर प्रूफ कैमरा एवं  बुलेट कैमरों से सस्ते होते हैं।  यह कैमरे छोटे से छोटे मार्केट में आसानी से मिल जाते हैं।  इस तरह के कैमरे सीपी प्लस,  हिक विजन, दहुआ, पैनासोनिक, अपोलो, टेक विजन आदि कंपनियां बनाती हैं। <<Buy Online CCTV>>

बुलेट कैमरा (Bullet Camera) –  बुलेट कैमरे का इस्तेमाल अधिकतर आउटडोर के लिए किया जाता है।  क्योंकि यह कैमरा वाटर प्रूफ होता है। इसलिए इसका यूज घर एवं मकानों तथा ऑफिस के मेन गेट की सुरक्षा के लिए किया जाता है।  इस कैमरे की रेंज डोम कैमरा की अपेक्षा अधिक होती है।

Bullet Camera

इस तरह के कैमरे भी हाई डेफिनेशन, नाइट विजन, फुल कलर डिस्प्ले एवं मोशन सेंसर होते हैं।  इस तरह के कैमरे भी मार्केट में 1000 से लेकर 1500 रुपए में आसानी से मिल जाते हैं। CCTV kya hai | CCTV in Hindi

बुलेट कैमरे को भी सीपी प्लस, हिक विजन, दहुआ, पैनासोनिक, एवं टैक्वीजन  जैसी कंपनियां बनाती है।  बुलेट कैमरे डॉम  कैमरे की अपेक्षा 100 से ₹200 महंगे होते हैं।

सी- माउंट  कैमरा (C -Mount Camera)

यह कैमरा विशेष प्रकार से अत्यधिक गर्म एवं अत्यधिक सर्दी वाले इलाकों के लिए बनाया गया है।  इस प्रकार के कैमरे ज्यादातर औद्योगिक क्षेत्रों में फैक्ट्रियों एवं कंपनियों में लगे होते हैं।  क्योंकि यह कैमरे अत्यधिक गर्मी सहन कर सकते हैं।

C -Mount Camera

C – माउंट सीसीटीवी कैमरा बुलेट कैमरे का एडवांस रूप है।  इसे लंबी दूरी के लिए एवं  स्थाई फोकस के लिए ज्यादातर यूज़  किया जाता है।  एक कैमरा भी  मार्केट में 2 मेगापिक्सल से लेकर  8 मेगापिक्सल तक आसानी से मिल जाता है।

PTZ पी टी जेड  कैमरा (Pan Tilt Zoom Camera)

PTZ पीटी जेड का फुल फॉर्म Pan Tilt Zoom होता है।  PTZ पीटी जेड कैमरे को आप 360-degree पर घुमा सकते हैं। PTZ पीटी जेड सीसीटीवी कैमरा को आप  डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर के सॉफ्टवेयर की मदद से किसी भी दिशा में घुमा सकते हैं।

Pan Tilt Zoom Camera

इस कैमरे को आप डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर में  प्रीसेट बनाकर ऑटोमेटिक टूर पर भी सेट कर सकते हैं। PTZ पीटी जेड कैमरे हाई डेफिनेशन कैमरे होते हैं जिनकी वीडियो क्वालिटी भी की एचडी में होती है। PTZ पीटी जेड कैमरा अन्य कैमरों की तुलना में  कई गुना जूम इन जूम आउट होता है।

यह कैमरा 2 मेगापिक्सल से 8 मेगापिक्सल तक मार्केट में मिलते हैं।  इन कैमरों की कीमत अन्य कैमरों की तुलना में काफी ज्यादा होती है।  इस तरह के कैमरे ₹15000 से लेकर ₹100000 तक मिलते हैं।

इस तरह के कैमरे ज्यादातर  माल,  पिक्चर हॉल,  रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड, तथा हॉस्पिटलों में मिलते हैं। CCTV kya hai

डे / नाइट कैमरा (Day/ Night Camera)

Day/Night कैमरा दिन के समय कलरफुल वीडियो एंव रात के समय ब्लैक एंड वाइट वीडियो एवं रिकॉर्डिंग प्रदान करते हैं।  हालांकि अब सभी हाई डेफिनेशन कैमरों में  डे नाइट फीचर्स होता है।

CCTV kya hai | CCTV in Hindi

डे नाइट सीसीटीवी कैमरे को पर्यावरण का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। चाहे सर्दी हो चाहे गर्मी हो  या बारिश  यह सभी मौसम में काम करता है।  लेकिन  पिक्चर क्वालिटी फुल एचडी कैमरा की अपेक्षा कम होती है। इस कैमरे में रात में वीडियो कैप्चर करने के लिए इंफ्रारेड  इल्यूमिनेटर नहीं होता है।

इसलिए डे नाईट कैमरा को अधिक अधेरे वाली जगहों  पर  लगाने से पिक्चर क्वालिटी अच्छी नहीं होती। यह कैमरा आउटडोर के लिए ज्यादा अच्छा नहीं है।  इसको हमेशा इंडोर ही यूज करना चाहिए। CCTV kya hai

इंफ्रारेड / नाइट विजन कैमरा ( Night Vision CCTV Camera)

यह कैमरा  इंफ्रारेड टेक्नोलॉजी का यूज करता है।  इस कैमरे में इंफ्रारेड इल्यूमिनेटर इनबिल्ट होते हैं। अंधेरा होते ही इस कैमरे की इंफ्रारेड टेक्नालॉजी के कारण  इंफ्रारेड एलईडी ऑन हो जाती है। यह कैमरा  इंडोर एवं आउटडोर दोनों जगह पर रात में क्लियर वीडियो कैप्चर करने के लिए सक्षम है।

Night Vision CCTV Camera

यह कैमरा कम रोशनी में भी उच्च क्वालिटी की वीडियो कैप्चर करता है। इस  नाइट विजन कैमरा को आप घर या मकान के अंदर या बाहर लगा सकते हैं। अब सभी हाई डेफिनेशन कैमरा में इंफ्रारेड टेक्नोलॉजी होती है।

गार्ड प्लस सीसीटीवी कैमरा (Guard Plus CCTV Camera)

गार्ड प्लस कैमरा सीपी प्लस ब्रांड का कैमरा है।  यह एक हाई डेफिनेशन  सीसीटीवी कैमरा है जो रात में भी हाई डेफिनेशन कलरफुल वीडियो  प्रदान करता है।  इस कैमरे में इंफ्रारेड एल ई डी के अलावा अलग से एलईडी लाइट होती है। इसलिए रात में लाइव एवं रिकॉर्डिंग वीडियो भी कलरफुल होती है।

Guard Plus CCTV Camera

उपयोग –  इस कैमरे का उपयोग क्रिटिकल एरिया, हीरा एवं ज्वेलरी की दुकानों तथा अधिक अधेरे वाले स्थानों में किया जाता है।

स्पाई कैमरा (Spy Camera)

यह कैमरा बहुत ही छोटा होने के कारण इसको खुफिया कैमरा भी कहते हैं।  इस कैमरे का  किसी सीक्रेट मीटिंग, कोई खुफिया जानकारी का पता लगाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।  इसके कैमरे में ऑडियो एवं वीडियो दोनों फंक्शन होते हैं।

इसमें रिकॉर्डिंग के लिए एसडी कार्ड का उपयोग किया जाता है।  यह कैमरा अलग-अलग रूप में देखा जा सकता है जैसे कि – पेंसिल, यूएसबी चार्जर,  स्क्रू, कोट का बटन  एवं चश्मा आदि।

Fundamental Components of CCTV | CCTV kya hai 

  • सीसीटीवी कैमरा (आईपी कैमरा,  डिजिटल कैमरा )
  • सीसीटीवी 3+1 वायर  या नेटवर्क वायर (Cat-6)
  • डिजिटल वीडियो  रिकॉर्डर (DVR)  अथवा नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर (NVR)
  • स्टोरेज (हार्ड डिस्क)
  • पावर सप्लाई सीसीटीवी  के लिए (16CH, 8CH, 4CH)
  • बीएनसी कनेक्टर या rj45 कनेक्टर
  • डिस्प्ले के लिए टीवी ( LCD, LED, TV, Monitor )

सीसीटीवी कैमरे के फायदे (Advantages of CCTV)

  • CCTV Camera अपने मकान पर लगाने से सिक्योरिटी गार्ड की जरूरत नहीं  रहती है।
  • सीसीटीवी कैमरा  की लाइव वीडियो  देखने के अलावा 30 दिन पहले का भी रिकॉर्डिंग देख सकते हैं।
  • CCTV Camera की रिकॉर्डिंग अपराधिक गतिविधियों  का पता लगाने के लिए किया जाता है।
  • सीसीटीवी कैमरा से अपनी किसी कंपनी या फैक्ट्री को अपने घर से ही रिमोट एक्सेस के द्वारा लाइव देख सकते हैं।
  • CCTV Camera की रेंज में आने वाली सभी अपराधिक गतिविधियों का रिकॉर्ड  निकाल सकते।
  • चोरी हुए सामान की रिकॉर्डिंग निकाल कर  पुलिस स्टेशन में दे सकते हैं।  एवं चोर को पकड़वा  सकते हैं।  फर्स्ट इनफॉरमेशन रिपोर्ट FIR लिखाने के लिए आपको अलग से गवाह या सबूत की जरूरत नहीं पड़ती।
  • सुरक्षा के लिहाज से सीसीटीवी कैमरा को आप अपने दुकान, मकान एवं अपनी प्रॉपर्टी की सुरक्षा के लिए लगा सकते हैं।
  • सीसीटीवी कैमरा द्वारा आप रिमोट एक्सेस सेटअप की सहायता से पृथ्वी के किसी भी कोने से आप अपना घर मकान या अपनी प्रॉपर्टी को देख सकते हैं।

घर में सीसीटीवी कैमरा कैसे लगाएं | CCTV installation kaise kare

  • सीसीटीवी कैमरा लगाने से पहले आपको किसी अच्छी ब्रांड के कैमरे खरीदनी चाहिए  जैसे कि – सीपी प्लस, हिक विजन, दहुआ, पैनासोनिक आदि।
  • सबसे पहले आप सीसीटीवी  तार को वायर क्लिप के द्वारा अपनी मकान की दीवारों में स्थापित करें।
  • सीसीटीवी कैमरे को दीवार पर सही लोकेशन देख कर ड्रिल मशीन से छेद करके  प्रॉपर तरीके से इंस्टॉल करें।
  • सीसीटीवी कैमरा को बीएनसी कनेक्टर के द्वारा कनेक्ट करें।
  • डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर में हार्ड डिस्क स्थापित करें। डीबीआर को हमेशा इनवर्टर की सप्लाई  प्रदान करें। ताकि डीवीआर की वीडियो रिकॉर्डिंग लगातार चलती रहे।
  • सीसीटीवी वायर का के दूसरे छोर को बीएनसी कनेक्टर से कनेक्ट करके डीवीआर में लगाएं।
  • 12 बोल्ट पावर सप्लाई सीसीटीवी वायर  में रेड वायर और ब्लैक वायर से कनेक्ट करें। ताकि सीसीटीवी कैमरे में पावर सप्लाई पहुंच सके।
  • डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर को पावर एडेप्टर से कनेक्ट करें। एचडीएमआई केबल या वीजीए केबल से एलइडी टीवी या मॉनिटर को कनेक्ट करें।
  • सभी सीसीटीवी कैमरा की लोकेशन अच्छी तरह से सेट करें।

सीसीटीवी का उपयोग किन स्थानों पर किया जाता है

बढ़ते क्राइम को देखते हुए आजकल सीसीटीवी  की जरूरत हम सबको हैं कुछ ऐसे स्थान हैं जहां सीसीटीवी लगना अनिवार्य है। ज्यादातर सीसीटीवी कैमरे का उपयोग निम्नलिखित स्थान किया जाता है।

  • Airport
  • Railway station
  • Bus stand
  • Public transport
  • Road and highway
  • Traffic area
  • Hospital
  • Hotel and restaurant
  • Bank
  • Government office
  • Personal office
  • Police station
  • School and college
  • Parks
  • Domestic use
  • Picture hall
  • All type shop

CCTV basic questions and answers

Q- सीसीटीवी कितने प्रकार के होते हैं ?

 टेक्नोलॉजी के आधार पर सीसीटीवी मुख्यतः चार प्रकार के होते हैं।  जो इस प्रकार है

  • एनालॉग सीसीटीवी कैमरा (Analog CCTV Camera)
  • HD सीसीटीवी कैमरा (HD CCTV Camera)
  • आईपी सीसीटीवी कैमरा (IP CCTV Camera)
  • वायरलेस सीसीटीवी कैमरा (Wireless CCTV Camera)
Q- घर में लगाने वाला कैमरा कितने का आता है ?

घरों एवं मकानों में लगाने लगाए जाने वाले ज्यादातर वाईफाई कैमरे होते हैं। वाईफाई सीसीटीवी कैमरा 1500 रुपए से लेकर  ₹3000 तक मार्केट में मिल जाता है। यह सिंगल वाईफाई कैमरा होते हैं।

इन कैमरों में रिकॉर्डिंग के लिए एसडी कार्ड स्थापित किया जाता है। इनमें वायरिंग का कोई झंझट नहीं रहता एवं इंटरनेट की मदद से इन वाईफाई कैमरा को रिमोट एक्सेस के द्वारा मोबाइल से कनेक्ट किया जा सकता है।

Q- सीसीटीवी कैमरे की रेंज कितनी होती है ?

सीसीटीवी कैमरों की रेंज उसके लेंस एवं मेगापिक्सल पर निर्भर करता है।  ज्यादातर सीसीटीवी कैमरे के लेंस 3 एमएम से लेकर 6 एमएम तक होते हैं।  इन सीसीटीवी कैमरों की रेंज 20 से 30 मीटर तक होती है। 6 mm से अधिक एमएम वाले लेंस की रेंज 40 मीटर से लेकर 50 मीटर तक होती है। CCTV kya hai

Q- सबसे छोटा कैमरा कौन सा है ?

सबसे छोटा कैमरा ओमनी विजन OV 6948  है।  इस कैमरे को ओमनी विजन टेक्नोलॉजी कंपनी ने बनाया था। इसका साइज बालू के दाने के जितना होने के कारण इस को दुनिया का सबसे छोटे कैमरे का किताब मिला है।

Q- सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग कब तक रहती है ?

सीसीटीवी कैमरे की रिकॉर्डिंग कैमरे के मेगापिक्सल एवं स्टोरेज पर निर्भर करती है। अधिक मेगापिक्सल वाले कैमरों की वीडियो रिकॉर्डिंग हार्ड डिस्क में अधिक स्थान घेरती है। 4CH डीवीआर में 4 एचडी कैमरा लगाने पर 30 दिन की रिकॉर्डिंग के लिए 1000 जीबी (1TB Hard Disk)  की जरूरत होती है।  यदि आप दो कैमरे लगाते हैं तो आपको 60 दिन की रिकॉर्डिंग मिलेगी।

Q- सीसीटीवी कैमरा लगाने के लिए क्या क्या चाहिए?
  • सीसीटीवी कैमरा (एनालॉग, डिजिटल कैमरा )
  • सीसीटीवी 3+1 वायर
  • डिजिटल वीडियो  रिकॉर्डर (DVR)
  • स्टोरेज (हार्ड डिस्क)
  • पावर सप्लाई सीसीटीवी  के लिए (16CH, 8CH, 4CH)
  • (BNC) बीएनसी कनेक्टर
  • डिस्प्ले के लिए टीवी ( LCD, LED, TV, Monitor )

Q- सीसीटीवी कैमरा लगाने में कितना खर्च पड़ता है ?

यह सीसीटीवी कैमरा बनाने वाली कंपनी एवं कैमरे की क्वालिटी पर निर्भर करता है। सीपी प्लस तथा हिकविजन कंपनी का 4 चैनल वह 8 चैनल व 16 चैनल के सेटअप का प्राइस लगभग 16000, 24000 को 30000 है। CCTV kya hai

  • डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर (DVR) – 2200 (4CH), 3400(8CH), 6800(16CH) 
  •  2.4 मेगापिक्सल डोम कैमरा (1)   – 1000
  • 2.4 मेगापिक्सल बुलेट कैमरा  (1) – 1100
  • 1TB हार्ड डिस्क     –  3200
  • पावर सप्लाई – 450 (4CH), 750(8CH), 1500(16CH)
  • 90 मीटर सीसीटीवी  वायर – 950
  • बीएनसी कनेक्टर (1) –  10 
  • आउटपुट के लिए टीवी या मॉनिटर – 2500 रुपए
  • इंस्टॉलेशन चार्ज – 300 रुपए प्रति कैमरा

Conclusion

CCTV kya hai / सीसीटीवी क्या है ? सीसीटीवी कितने प्रकार के होते हैं ? तथा सीसीटीवी से संबंधित सभी प्रश्नों को ध्यान में रखते हुए इस आर्टिकल को बनाया है मुझे उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़कर आपको  सीसीटीवी के बारे में सभी जानकारी गई होगी।  यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। Thanks

1Shares
error: Content is protected !!