Princess Story in Hindi New 2020 | अक्ल बड़ी या मंत्र एक मजेदार कहानी !

Princess Story in Hindi New 2020 !  एक राजा था।  वह  बड़ा प्रजा पालक था।  और वह बड़ा ही दानी और न्याय प्रिय राजा था।   उसे नई – नई इमारतें बनवाने का शौक था।  एक बार राजा ने अपने लिए एक अनोखा महल बनवाने का विचार किया। बहुत बड़ा तालाब खुदवा कर बीच में संगमरमर का महल बनवाया, और तालाब में पानी लबालब भर दिया था।  घाट  भी बड़े सुंदर  बनाए थे।  जिनके चारों तरफ संगमरमर की बुर्जियां  शोभायमान थी।

 

अक्ल बड़ी या मंत्र एक कहानी

 

 

 

 

उस राजा के राज्य में जो भी परदेसी आए तो राजा उससे यही पूछे कि तुम्हारे राज्य में ऐसा महल है क्या।  और जब लोग कहे कि नहीं महाराज।  ऐसा सुंदर महल  तो हमने  आज तक कहीं नहीं देखा, तब राजा बहुत खुश हो जाते थे।  जब चारों तरफ नए महल की धूम मच गई। तो राजा ने कहा अब पंडितों से मुहूर्त निकलवा कर नए  महल में गृह प्रवेश किया जाए।  और दूसरे दिन ही रा जा ने शुभ मुहूर्त  निकलवाया।  बड़े-बड़े पंडित बुलबाए और यज्ञ हुआ पूजा-पाठ हुआ, दीन दुखियों को भरपेट भोजन दिया गया, और चारों तरफ राजा की जय – जयकार होने लगी। (Princess Story in Hindi New 2020 !)

You May Like – Akbar Birbal Top 10 Stories in Hindi – अकबर बीरबल की 10 मज़ेदार कहानियां !!!

Princess Story in Hindi New 2020 ! – एक मजेदार कहानी !

राजा ने हुक्म दिया कि जैसा सुंदर मेरा महल  है वैसा ही उसे सजाना भी चाहिए।  जब महल सज जायेगा तब में  यहाँ परिवार सहित रहने आऊंगा।  हुकुम की देर थी कि  महल को अच्छी तरह से सजा दिया गया।  सजावट देखकर सभी कहे कि अब तो राजा इंद्र का महल भी इसके सामने फीका लगेगा।  संयोग की बात है कि उसी रात कैलाश पर्वत से भागी हुई भूतों की एक टोली महल के ऊपर से गुजरी।  भूतों के मुखिया ने इतना सुंदर महल देखा और वह भी सुनसान, तो बहुत खुश हुआ।  भूतों को सन्नाटे की जगह बहुत पसंद आती है।  इसलिए मुखिया के हुकुम से वह सब वहीं उतर पड़े।

Princess Story in Hindi New

 

 

अच्छी जगह बहुमूल्य सजावट और खाने पीने का बहुत बड़ा भंडार देखकर भूतों को बड़ा आनंद आया।  रात भर धमा – चौकड़ी मचाते रहे। सवेरे सूरज निकलते ही भूतों की ताकत कम हो जाती है।  इसलिए  वह सभी कोने – कतरे में निर्बल और निस्तेज होकर दिन भर छिपे  रहते है ।  संयोग की बात है कि उसी दिन सवेरे राजा अपनी रानी और राजकुमारियों के साथ उस महल में रहने के लिए आए।

Wisdom story ! buddhi hi bal hai story in hindi !

बड़ी धूमधाम हुई दिनभर गाना – बजाना खाना-पीना, राग – रंग चलते रहे।  भूतों को क्रोध आए कि राजा ने हमारी जगह छीन ली है।  मगर दिन में  भूत कुछ नहीं कर सकते थे।  जब रात हुई राजा -रानी, नौकर और दासिया  सब सो गए तो भूत मंडली एक जगह जमा हो गई और यह विचार होने लगा कि अब कहां चला जाए।  भूतों का मुखिया अपनी नकसुरी आवाज में बोला हम कहीं नहीं जाएंगे यह महल तालाब के बीच में है।  इसलिए जो हमें कैलाश पर्वत से पकड़ने आएंगे उन्हें यहाँ का पता नहीं चलेगा। Princess Story in Hindi New 2020 !

ऐसा करो कि राजा रानी नौकर और बंदी सबको पलंग समेत  उठाकर तालाब में फेंक दो। हम यही रहेंगे।  भूतों के इस निश्चय से महल में हाहाकार मच गया।  सोते हुए राजा, रानियों समेत डेढ़ सौ दो सौ आदमी पानी में फेंक दिए।   बड़ा शोर – शराबा हुआ।  कुछ मसाले जली , बचाओ – बचाओ आवाज चारों तरफ से सुनाई देने लगी।  राम-राम करके किसी तरह  राजा वगैरह सब लोग बचाए गए।  और वह सब लोग भाग कर फिर अपने पुराने महल में लौट आए।  कई रानियों को डर और पानी की ठंड के कारण बुखार आ गया।

You May Like – Akbar Birbal Stories In Hindi | अकबर बीरबल की 20 रोचक कहानियां !!!

अक्ल बड़ी या मंत्र एक मजेदार कहानी ! | bhoot ki kahani hindi mein !

राजा अभी बहुत परेशान कि यह कौन सी आफत आ गई।  उसने लाखों रुपए खर्च करके इतना सुंदर महल बनवाया, लेकिन  वहां रह ना सका।  इसका कारण क्या है ?  बड़े-बड़े पंडित आए,  ज्योतिषी आए , बड़े-बड़े बाबा बैरागी आए , सब ने विचार किया, फिर एक साधु बोला कि यह  शिव जी के भूतों की भागी हुई मंडली है।  उसको कोई निकाल नहीं सकता।

लेकिन दक्षिणा के लालच में कुछ पंडितों ने कहा कि हम अपनी मंत्र – तंत्र की शक्तियों से भूतों को भगा देंगे।  पंडितों के कहे मुताबिक पूजा पाठ के लिए ढेर सारी सामग्री मंगवाई गई।  पंडित लोग महल में गए, पूजा की और महल के चारों ओर अभिमंत्रित कीले  गाड़ी गई।  फिर कहां के अब यहाँ भूत तो भूत स्वयं भूतनाथ भी आने की हिम्मत ना करेंगे।   मंत्री से कहा कि  राजा से कहो कि वह अपने महल में आकर सोए। परन्तु  मंत्री ने कहा अभी मैं राज परिवार को यहां लाने की जोखिम नहीं उठाऊंगा।  पहले दो-चार दिन तुम ही लोग रह कर बताओ।

कि सब ठीक-ठाक है तब हम राजा को बुलाएं।  परन्तु पंडितों का पूजा पाठ बिल्कुल निकम्मा साबित हुआ।  रात के समय जब भूतों में जोर आया तो उन्होंने इन पंडितों को भी उठा- उठा कर फेंकना चालू कर दिया।  कोई दलदल में गिरा तो किसी की हड्डी पसली टूटी ,किसी का सिर फूटा , सभी  हाय – हाय करते वहां से भागने लगे।  पंडितों की पराजय से राजा  बहुत दुखी हुआ।  उसने दूसरे दिन  चारों ओर ढिढोरा  पिटवाया कि जो मेरे महल से भूतों को निकाल देगा उसे 5000000 रूपये इनाम में दूंगा।  इन रुपयों के लालच में इस बार बड़े-बड़े मौलवी मुल्ले, भगत – सयाने आए, मगर उनकी भी भूतों ने बुरी  दुर्गत कर डाली, वह भी भाग खड़े हुए ।

Prince and princess story in hindi new !

परंतु राजा अभी अपनी जिद पर  चढ़ गया था।  और अपने मंत्रियों से कहा।  मंत्री तुम देश – विदेश में ढिढोरा पिटवा दो कि जो व्यक्ति इस महल से भूतों को निकाल देगा , उसे राजा अपनी राजकुमारी का पति बनाकर आधा राजपाट सौंप देगा।   ढिंढोरा पीटा – खलक खुदा का मुल्क  हिंदुस्तान का , हुकुम राजा बहादुर का।

कि जो कोई महल से भूतों को निकाल देगा वह राजकुमारी का पति बन जाएगा।  मगर कोई ना आया।  चारों तरफ एक खबर फैल गई कि शिवजी के भूत हैं उनको कोई निकाल नहीं सकता।   जिसको जान देनी हो वही जाए।  महीनों बीत गए। लेकिन बेचारा राजा बहुत उदास रहा ।  मगर क्या कर सकता था।  संयोग की बात है कि उसी राजा के राज्य में एक बूढ़े मुंशी रहते थे।  वह  बेचारे मर गए उनकी एक बुढ़ापे की औलाद थी। और  बूढ़ी विधवा पत्नी। Princess Story in Hindi New 2020 !

बेचारे गरीबी की मार से दुखी होकर अपना जीवन जैसे तैसे काटते रहे।  लड़का नौकरी की तलाश में रोज राजा के दरबार में जाएं और वहां से उसे कोई कामकाज न मिले।  बेचारे मां बेटे भूख से बिलबिलाने  लगे।  1 दिन बीता 2 दिन बीते,  जो तीसरा दिन हुआ।  तो मुन्सी  जी के बेटे ने यह सोचा के भूतों के महल में चला जाए।  या तो वह उन्हें निकाल देगा।  या फिर भूत ही उसे मार डालेगा।

Princess story in hindi language !

सोचते – सोचते एक तरकीब उसने दिमाग में आई।  झटपट उठा और अपने स्वर्गीय पिता का कमल दान लिया, एक पट्टी उठाई।  एक टाट  का बोरा और पैना चाकू भी संभाल कर टेंट में रखा।  फिर लालटेन लेकर मां से बोला माता  मैं बाहर काम पर जा रहा हूं।  जो लौट कर ना आऊं तो राजा के यहां से पूछ लेना कि मेरा बेटा कहां गया।  तुम्हें पता लग जाएगा।  बेचारी बुढ़िया समझ ही नहीं पाई कि बेटा कहां जा रहा है।  और बेटा भूतों के महल में जा पहुंचा।  मह ल के तालाब के बाहर शानदार  फाटक था।   वहां राजा के सिपाही पहरा दे रहे थे।

मुंशी जी के बेटे ने कहा की फाटक खोल दो।  मैं भूतों से लड़ने आया हूं।  सिपाही हंस पड़े।  जा जा पिद्दी  जैसा  लड़का।  शिवजी के भूतों से लड़ेगा।  बड़े-बड़े पंडित,  मौलवी , भगत सयाने तो अपने कान पकड़ कर भाग गये ।  अब तू क्या अपनी जान देने आया है।  लड़का बोला वह लोग मंत्रों से लड़े।  मैं बुद्धि से लड़ूगा।  अगर तुम लोग फाटक  नहीं खोलेगे  तो मैं राजा से जाकर शिकायत कर दूंगा।

सिपाही ने झुंझलाकर  फाटक खोल दिया और कहा ! ले जाकर मर।  तालाब के किनारे  एक डॉगी बंधी  थी।  उसी में अपनी सब चीजें रखकर महल की और डॉगी  ले जाने  लगा।  महल में भूत कांव-कांव  करते हुए बड़ा शोर मचा रहे थे।  सुनकर वह  लड़का डरा नहीं बोला , शिवजी को तुम्हारे यहां रहने का पता चल गया है।  और मैं तुम्हारी खबर लेने के लिए ही यहां आया हूं।  मैं  मुंशी चित्रगुप्त की औलाद हूं।  लड़के की यह बात सुनकर महल में सन्नाटा छा गया। Princess Story in Hindi New 2020 !

You May Like – 15 Hindi Short Stories With Moral for kids – 15 प्रेरणादायक कहानियाँ

Bhoot ki kahaniya in hindi | bhoot pret ki kahani hindi  | kahani hindi !

लड़का  डोंगी से उतरकर अपना टाट, लांटटेन  , बस्ता, बहीखाता , कमल दाल लेकर घाट की सीढ़ियों पर चढ़ने लगा।  और ऊपर जाकर फिर जोर से बोला।  मैं महादेव जी के हुक्म से आया हूं।  उनके जितने भूत भागे हैं वह सब मेरे सामने आए।  और अपना अपना नाम लिखवाए ।  अगर नहीं लिखवाएंगे तो आधे पहर  के भीतर वीरभद्र की टोली आकर् सभी  भूतों को आसमान में ही जला डालेगी।  भूतों में खलबली मच गई।  सब एक दूसरे के चेहरे देखने लगे।  मुंशी जी के बेटे ने फिर ललकारा । कहा ! जो मेरे पास आकर अपना -अपना नाम नहीं लिखवाएगा उसको सजा दी जाएगी।  ओम नमः शिवाय। Princess Story in Hindi New 2020 !

 

अक्ल बड़ी या मंत्र

 

 

 

भूत बेचारे डरते कांपते आए।  लड़का सबके नाम पूछे।  वहीखाते  में  टाक़े  और फिर चाकू निकालकर कहे  कि बैठो तुम्हारी नाक काटेंगे।  भूत डर कर गिड  – गिडाने  लगे।  लड़के ने कहा  कि शिव जी की आज्ञा से तुम्हें सजा तो अवश्य ही दी जाएगी।  चाहे  नाक कटवा लो ,या फिर आग में जलो ।  हारकर भूतों का मुखिया बोला।  आप हमारी नाक हीं काट लें  मगर जीने दे।  लड़का बोला ठीक है  नाकें  कटवाओ और राजा का राज्य छोड़कर 500 कोस दूर भाग जाओ।  और अब लौट कर आए तो इन्हीं कटी हुई नाकों से हवन करके तुम्हें जलाया जाएगा।

New Princess Story in hindi !

भूत बहुत डर गए थे। इसलिए आकर लड़के  की वहीं – खाता में अपना नाम लिखवाते  और नाक कटवाते  और भाग जाते थे।  मुंशी जी के बेटे ने सब की नाकेँ एक बोरे में भरी और उसे सिल  लिया।  और  वही पर तकिया बना कर उसी नाकों के भरे बोरे  पर सो गया।  नाक  कटे सभी  भूत भाग गए और मुंशी  जी का लड़का  चैन से खर्राटे भरने  लगा।  सुबह होते ही सिपाही आए कि  महल से लड़के की लाश निकाले।

और राजा को जाकर खबर करें।  पर लड़का तो नाकों के बोरे  पर सोता हुआ खर्राटे भर रहा था।   सिपाहियों ने उसे जगाकर  पूछा कि भूतों ने तुम्हें मारा क्यों नहीं।  लड़का हँस  कर बोला। कि भूत है ही कहाँ जो मुझे मारते।  भूत तो मेरे बोरे में बंद हैं।  जाओ राजा को जाकर खबर करो कि राजा यहाँ आकर रहे। और राजकुमारी से मेरा ब्याह करें।  ऐसा ही हुआ राजा ने राजकुमारी  के साथ उस लड़के से विवाह कर दिया और कहा कि इस नए महल में अब तुम ही रहो और राजपाट करो। Princess Story in Hindi New 2020 !

मगर इतना जरूर बतला दो कि तुमने किस मंत्र से उन भूतों को भगाया है।  लड़के ने हंसकर राजा से कहा ! में कायथ  का बेटा हूं। बुद्धि से काम लेता हूं, इसलिए बुद्धूओ से  जीत गया।  राजा रानी बड़े खुश हुए, और लड़के की मां को भी महल में बुला लिया गया।  जैसे उनके सुख के दिन लोटे।  वैसे राम करे सब के दिन  आएं।

You May Like  – Top 10 Hindi Stories With Moral – संसार की सर्वश्रेष्ठ 10 प्रेरक कहानियाँ !

नमस्कार दोस्तों  ” Princess Story in Hindi New 2020 | अक्ल बड़ी या मंत्र एक मजेदार कहानी ! ” आपको अच्छी लगी  हो तो कृपया कमेंट और शेयर जरूर करें  –  इस  कहानी  को पढ़ने के लिए आपका बहुत -बहुत  धन्यबाद     !!! आपका दिन मंगलमय हो !!!

0Shares