Kamdev me kitana bal – कामदेव में कितना बल रोमांटिक कहानी

एक गांव में एक पंडित जी कथावाचक थे। Kamdev me kitana bal और कथा समाप्त होने पर वह कहा करते थे कि कामदेव में 10000 हाथियों का बल होता है एक  दिन एक साधु ने पंडित जी को चुनौती दी कि या तो अपने कथन को सिद्ध करो अथवा कथा बांचना बंद कर दो पंडित जी बेचारे बड़ी दुविधा में पड़ गए उन्होंने सुनी सुनाई बात कह दी थी 

 

दूसरे दिन ब्राह्मण की युवा बेटी ससुराल से आई और  माता पिता को चिंता में डूबा देख उसने कारण पूछा, पिता ने कारण बताया तो वह बोली आप खाना खाइए मैं इस बात को सिद्ध कर दूंगी। दूसरे दिन उसने स्वयं रसोई से बढ़ियाबढ़िया पकवान बनाये। और उसने  नहाधोकर, शाम हुई तो बन ठनकर भोजन की थाली लेकर साधु के आश्रम  की ओर चल पड़ी। (Kamdev me kitana bal – कामदेव में कितना बल – रोमांटिक हिंदी कहानी)

kamdev me kitna bal
 
उस समय बरसा ऋतू के कारण  बादल उमड़ घुमड़ रहे थे, काले काले बादल छाए हुए थे बिजली चमक रही थी वही आश्रम  के पास पहुंची तो कुछ बूंदाबादी भी शुरू हो गई सुंदर युवती को अकेला पाकर साधु के मन में विकार गया उसने उस से निवेदन किया तो ब्राह्मण की बेटी बोली मुझे लगता है।
कहीं कोई जाए आप बाहर का दरवाजा बंद कर आए, साधु जैसे ही से बाहर की ओर दौड़ा इसी बीच मौका पाकर लड़की ने भीतर से कुंडी लगा ली साधु ने दरवाजा बंद देखा तो पहले लड़की से अनुरोध किया जब उसने दरवाजा नहीं खोला तो उसे धमकाने लगा (Kamdev me kitana bal )

Kamdev me kitana bal- कामदेव में कितना बल, रोमांटिक हिंदी कहानी।  


लड़की ने फिर भी दरवाजा नहीं खोला अब साधु लड़कीवाले कमरे की छत पर चढ़ गया और उसमें छेद करने लगाथोड़ा सा सुराख होते ही वह उसमें से निकलने की कोशिश कर रहा था , लेकिन छेदछोटा बहुत था उसका शरीर उसी सुराग में फंस गया।तो लड़की ने उपयुक्त अवसर देख अंदर से दरबाजे की कुंडीखोली , और गांव की ओर  चल पड़ी और अपने  पिता से जाकर बोली कि आप गांव के सभी लोगों के साथ साधु के आश्रमपर पहुंचे और साधु से कहिए किकामदेवमें कितना बल होता है(Kamdev me kitana bal – कामदेव में कितना बल – रोमांटिक हिंदी कहानी)

पंडित जी ने लड़की के कहे अनुसार  ऐसा ही किया और  गांव वालों को इकट्ठा करके आश्रम की ओर चल दिए आश्रम पर पहुंच कर  सभी गांव वालो ने एक साथ साधु से पुछा कि  कामदेव में कितना बल होता है। शर्म से साधु, पंडित जी से नजर मिला सका और बोलामुझे क्षमा करो पंडित जी कामदेव  में 10,000 हाथियों का बल नहीं ,बल्कि असंख्य हाथियों का बल होता है। (Kamdev me kitana bal – कामदेव में कितना बल – रोमांटिक हिंदी कहानी)

इसे  भी पढ़े –  कंजूश बनिया बनाम भूखा पण्डित – हिंदी रोचक  कहानी। 
 
हेलो दोस्तों यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट करके  बताये। और यह कहानी आपको अच्छी लगी हो तो कृपया लाइक  और share  जरूर करे। 
 
फिर मिलेंगे दोस्तों तब तक के लिए अलविदा ,और इस कहानी को पढ़ने के लिए धन्यबाद। 
0Shares