Akbar Birbal Stories In Hindi | अकबर बीरबल की 20 रोचक कहानियां !!!

💥लकीर को छोटी कैसे करें  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक दिन की बात है। अकबर बादशाह ने  अपने सेवादार से एक कागज और एक पेंसिल लाने को कहा।  और उन्होंने कागज पर पेंसिल से एक लकीर खींची।  और बीरबल से बोले कि न तो यह लकीर  घटाई जाए और ना बढ़ाई जाए परंतु लकीर छुट्टी हो जाए।  बीरबल ने तुरंत ही उस कागज पर पेंसिल से बादशाह की लकीर के नीचे एक उससे बड़ी लकीर खींच दी।

 

Akbar Birbal Stories In Hindi

और बोले कि देखिए महाराज ! अब आप की लकीर इससे छोटी हो गई।  यह देख कर अकबर बादशाह बहुत खुश हुए और बीरबल को कुछ इनाम भी दिया।  उस  कहानी से हमें यह संदेश मिलता है कि  बुद्धिमानी से सब कुछ संभव है।

 

💥आपकी बारी कैसे आती  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

बादशाह ने बीरबल से कहा, अगर बादशाहत  हमेशा कायम रहती  यानी जो बादशाह होता वह  सदैव ही शासन करता ही रहता तो कैसा होता।  बीरबल ने तत्काल  स्वाभाविक  नम्रता पूर्वक उत्तर दिया जहांपनाह ! आपका कहना बिल्कुल उचित है।  किंतु यदि ऐसा होता तो भला सोचिए  ! कि आप बादशाह होते।  बीरबल के व्यंग को समझकर बादशाह चुप हो गए।  और मन ही मन  बहुत शर्मिंदा भी हुए ।

You May Like – 15 Hindi Short Stories With Moral for kids – 15 प्रेरणादायक कहानियाँ

Akbar Birbal Stories In Hindi  | Akbar Birbal ki kahani in Hindi Short Story 

💥 दो गधों का बोझ !💥

एक  दिन बादशाह, बीरबल और बादशाह का शहजादा  तीनों राज्य से बाहर  किसी गांव में प्रातः काल  टहलने गए हुए थे।  प्रात कालीन शीतल मंद – मंद वायु के मिलने से उन लोगों का चेहरा अत्यधिक प्रफुल्लित था।  जिसके कारण कुछ दूर और निकल गए।  बातों – बातों में वह बहुत दूर निकल चुके थे।  फिर उधर  से आते टाइम शरद काल की धूप  जब  शरीर पर लगी तो  बादशाह ने अपना लवादा  बीरबल के कंधे पर रख दिया।

इधर शहजादे ने भी  अपने पिता को देख अपना लवादा  उतार कर बीरबल को दे दिया।  जिसे बीरबल ने कंधे पर रख लिया।  बादशाह बीरबल से  उपहास  करने लगे।  कि  अब तो तुम्हारे ऊपर एक गधे का बोझ हो गया।   बीरबल ने तत्काल ही उत्तर दिया।  जहांपना एक का ही नहीं बल्कि दो गधों का बोझ है।  बीरबल की बात बादशाह समझ गए और अपना सिर नीचा कर लिया।

💥चतुर और मूर्ख की कहानी ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

बादशाह ने  एक  दिन बीरबल से पूछा कि दुनिया में चतुर और मूर्खों की क्या पहचान है।  बीरबल बोले के अवसर से जिसकी बुद्धि काम आए यानी युक्ति युक्त जिसका उत्तर हो वह चतुर है।  जिसका विपरीत यानी सामाजिक उत्तर ना हो वह मूर्ख है। यह सुनकर बादशाह बहुत प्रसन्न हुए।  (short stories of akbar and birbal in hindi with moral)

 

💥मुझे हंसा दो  एक कहानी ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

1 दिन बादशाह बीरबल से बोले यदि तुम मुझे हँ सा  दो, तो मैं तुम्हें मनमाना इनाम दूंगा।  इस पर बीरबल ने कहां ठीक है हुजूर।  और बीरबल ने हंसाने का  प्रयत्न किया।  परंतु बीरबल बादशाह को हंसाने में असमर्थ रहे।  बादशाह ने भी ना हंसने का पूर्ण निश्चय कर लिया था।

जब बीरबल ने देखा कि बादशाह नहीं हंसते तो  उनके कान के पास जाकर  अपना मुंह ले जाकर कहते हैं कि अब बिना हंसे रहें तो बताइए।  अब मैं आपके कान तले गुदगुदाता हूं,  बीरबल की बच्चों की तरह बातें सुनकर बादशाह खिलखिला कर हंस पड़े।  और अंत में बीरबल की जीत हुई।  और बीरबल को बादशाह ने इनाम भी दिया।

 

💥हुजूर  गधे आ रहे हैं – एक हास्यप्रद कहानी  !💥

एक समय बादशाह लड़ाई में युद्ध जीतकर बड़े प्रसन्न हुए और बीरबल को बहरूपिया का कोई निराला स्वांग  दिखला ने की आज्ञा दी।  बीरबल एक दूसरी जगह वहां से उठकर चला गया।  और  कुमहार की सूरत बना अपने साथ एक गधा लिए हुए मार्ग में मिला।  बादशाह बोले गधे वाला !  मार्ग छोड़कर अलग हो जा।  वीर बल  हंसता हुआ  बोला मैं तो कभी का कह रहा हूं।  हुजूर गधे आ रहे हैं।  बादशाह बीरबल के उत्तर को सुनकर शर्मिंदा हो गए।

 

💥यह तो हमारा ही है – कहानी ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक ब्यक्ति इच्छा पूर्ण भोजन करके अपने पेट पर हाथ फेर रहा था।  कहीं से एक चौबे की दृष्टि उस पर जा पड़ी।  चौबे ने कहा बा क्या कहना।  बहुत अच्छा पेट है बीरबल ने उत्तर दिया – अच्छा देखो तुम ही रख लो तो कैसा हो।  चौबे ने  हंसकर  कहा यह तो हमारा ही है।  बीरबल चौबे के उत्तर को सुनकर हंस पड़ा। (short stories of akbar and birbal in hindi with moral)

 

You May Like  – Top 10 Hindi Stories With Moral – संसार की सर्वश्रेष्ठ 10 प्रेरक कहानियाँ

💥आधा – आपका – कहानी ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक दिन बादशाह ने बीरबल से पूछा- बीरबल तू धरती की तरफ देखता हुआ क्यों चलता है, क्या तुम्हारे बाप -दादा की परंपरा की यही प्रणाली है।  बीरबल बोला नहीं महाराज धरती की प्रणाली कथा से विस्तृत है।  मैं अपनी बात बतलाता हूं।  मेरा धरती पर देखते हुए चलने का खास कारण यह है कि – मेरा बाप धरती में गुम हो गया।   बादशाह ने उत्तर दिया ! आज के दिन में उसे ढूंढ निकालू  तो मुझे क्या दोगे।  बीरबल बोला  आधा – आपका !  बादशाह अकबर, बीरबल का उत्तर सुनकर हंस पड़े।

 

💥उत्तम जल किस नदी का है  !💥

गर्मी के मौसम में 1 दिन  बादशाह बीरबल के साथ किले के ऊपर से जमुना जल की गंभीरता और नीर देख रहे थे।  अचानक उनका मन दूसरी तरफ चला गया।  कुछ देर सोचने के बाद बीरबल से बोले।  सबसे उत्तम जल किस नदी का माना जाता है।  बीरबल ने जवाब दिया जमुना का।  बादशाह ने कहा बीरबल !

Akbar Birbal Stories In Hindi

 

 

 हॉर्स और हवास से बातें कर रहे हो या  जो  जी  में आया वह कह दिया।  तुम्हारे वेद पुराण में गंगाजल की महिमा गाते हैं और तुम यमुना जल  की विशेषता दे रहे हो।  बीरबल बोला बादशाह !  गंगाजल तो अमृत है।  उसकी  समता जल से नहीं की जा सकती।   बादशाहा को बीरबल के उत्तर से बड़ा संतोष हुआ।  और बीरबल की चतुराई जान  गए।

Akbar Birbal Ke Kisse | अकबर और बीरबल के किस्से हिन्दी  में !

💥फांसी से मुक्त कर दो  !💥

एक दिन एक बुड्ढा ब्राह्मण किसी विशेष अपराध में गिरफ्तार होकर अकबर बादशाह के दरबार में लाया गया।  बादशाह ने उसका अपराध समझ कर उसको फांसी की सजा दी।  उसी समय बीरबल भी घूमता – फिरता आ पहुंचा।  बादशाह ने बीरबल से कहा  देखना एक बूढ़े आदमी की सिफारिश न करना, इस दुष्ट के संबंध में मैंने पहले ही कसम खा ली है।

मगर सिफारिश करोगे तो तुम्हारे कहने के विपरीत करूंगा , बीरबल ने कहा हुजूर ! इस नासमझ को जरूर फांसी दीजिए इसने कठिन से कठिन दंड पाने का काम किया है।  बादशाह पहले ही बीरबल के विपरीत की शपथ खा चुके थे।  इस प्रकार उसी ब्राह्मण को छोड़ दिया।  और बीरबल  की चतुराई से उस ब्राह्मण की जान बची।  और ब्राह्मण खुश होकर चला  गया।

You May Like – Akbar Birbal Top 10 Stories in Hindi – अकबर बीरबल की 10 मज़ेदार कहानियां !!!

💥पा खाने में चित्र   ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक बार बादशाह को किसी आवश्यक कार्य बस बीरबल को एक दूसरी राजधानी में भेजना पड़ा।  वहां के राजा का बीरबल के बुलाने का असली अभिप्राय बादशाह का  उपहास करके उसे नीचा दिखाने का था।  इसलिए उसने पहले से ही अपने पा खाने में अकबर की तस्वीर  टंगवा रखी थी। (short stories of akbar and birbal in hindi with moral)

और बीरबल को किसी बहाने से अपना  पाखाना दिखाया  और बीरबल से पूछा  आपको पता है हमने आपके महाराजा की तस्वीर पाखाने में क्यों लगाई है।  बीरबल थोड़ी देर  सोच कर जवाब दिया – हां पता है।   उनको देखकर आपको पाखाना उतर जाता होगा।  और मुझे कोई दूसरा कारण समझ में नहीं आता।  राजा बीरबल के ऐसे  मुंह तोड़ उत्तर से वह राजा बड़ा ही शर्मिंदा हुआ।  और चुप हो गया।

 

💥आप मुझ को चाट रहे थे और मैं आपको चाट रहा था।  कहानी !💥

एक दिन  बादशाह बीरबल के घर गए।  बीरबल अभी  शाम के समय पूजा अर्चना कर रहा था।  जब उनकी बीरबल से मुलाकात हुई तो कुछ देर कुशल – प्रश्न के बाद अपनी बातें छेड़ी।  बादशाह ने कहा- बीरबल, आज मैंने एक अजीब सपना देखा है।  यानी मै शहद के कुंड में गिर गया हूं।  और तुम टट्टी के कुंड में गिर गए हो।  बीरबल भी कहां रुकने वाले थे।

बीरबल ने भी कहा- मुझे भी आज की रात में अजीब घटनाएं घटी।  मैंने भी आपके समान ही सपना देखा है।  मेरा सपना आपसे थोड़ा ऊंचा था।   हम दोनों कुंड से बाहर निकल आए थे।  और आप मुझको चाट रहे थे और मैं आपको चाट रहा था।  राजा का बीरबल को नीचा दिखाने का सपना टूट गया।  और बादशाह  लज्जत हो कर चुप हो गए थे।

Short Stories of Akbar and Birbal in Hindi With Moral

💥 कौन सुखी है  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक दिन बादशाह ने किसी एक नग्न पुरुष को देखा और  क्षोभित  होकर बीरबल से पूछा  संसार में कौन  सुखी है।  मैं इस संसार के मनुष्य का नाना प्रकार के भेस-बूसा और ईश्वर पूजा का विभिन्न उपाय देखकर बड़े असमंजस में पड़ गया हूं।  तुम पंडित और ज्ञानी हो इसलिए मेरे प्रश्न का समाधान करो।  बीरबल ने उत्तर दिया जहाँपनाह !  इस बात का फैसला मनुष्य के मरने के बाद होता है।

बादशाह और भी संदिग्ध हो गए  और बीरबल से इसका कारण पूछा।  बीरबल बोला ! जिसको आज हम सुखी देखते हैं वही कल विपत्ति में पडकर पर निर्धन व् दुःखी हो जाता है।  तब ऐसी दशा में जीते जी किसी मनुष्य को सुखी या दुखी कैसे कह सकते हैं।  कितने लोग ऐसे भी हैं

जो ऊपर से तो बड़े सुखी ज्ञान पढ़ते हैं परंतु उनके अंत करण में दुख व्याप्त रहता है।  तब उनको भी सुखी नहीं कहा जा सकता।  मेरे सिद्धांत से सब का निचोड़ यही है कि जो मनुष्य सुख पूर्वक  मरे ! उसी को सुखी कहना उचित है।  बीरबल का उत्तर बादशाह  को बहुत पसंद आया।  और उसे परितोषिक दिया।

You May Like – Akbar Birbal Top 10 Stories in Hindi – अकबर बीरबल की 10 मज़ेदार कहानियां !!!

birbal stories in hindi | अकबर बीरबल की 20 रोचक कहानियां !!!

💥दौलत  ड्योढ़ी  पर हाजिर है  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

1 दिन बादशाह ने किसी कार्य में  गलती करने के कारण अपने  दौलत नाम के  पुराने सेवक पर नाराज होकर उसे नौकरी से निकाल दिया। बेचारा सेवक अपनी बचत का कोई दूसरा उपाय न देखकर बीरबल के पास गया।  वीरबल  उसका  सारा समाचार सुनकर बोला।  तुम एक बार  फिर महल  मैं जाकर कहो कि  दौलत ड्योढ़ी  पर हाजिर है, हुजूर ।

हुकुम दो तो रह जाएं।  सेवक ने वैसा ही किया।  बादशाह ने उसे बुलवाकर समझाया दौलत मेरे यहां हमेशा कायम रहे।  बादशाह और  उस पुराने नौकर की अर्थ भरी बातों को समझ कर सभी दरबारी हंसने लगे।  बीरबल की बुद्धि से बिचारे की जीविका बनी रह गई।

💥ब्राह्मण का पैर तीर्थ है ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक बार  बाद शाह ने  बीरबल से पूछा की गाय को माता कहते हो  और फिर उसके चमड़े का जूता क्यों पहनते हो।  बीरबल ने जवाब दिया कि जहांपना ! ब्राह्मण का  पैर पवित्र तीर्थ माना गया है।  जिसके छूने से सब – सुख एंव  मोक्ष प्राप्त हो जाता है यही वजह है कि हम उसकी खाल का जूता पहनते हैं। बीरबल का  जवाब सुनकर बादशाह को  बहुत खुशी हुई।

 

  💥दिल्ली में कोए  की गिनती ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

1 दिन बाद शाह सबसे पहले दरबार में आए।  और बाद में जितनी दरबारी आते गए सब से बराबर यही पूछते गए – दिल्ली में कौए  की गणना कितनी है।  सभी दरबारी चुप रह गये , किसी ने झूठ – सच कुछ भी उत्तर नहीं दिया।  तब तक बीरबल भी आ पहुंचा।  बादशाह ने वही प्रश्न उससे भी पूछा। बीरबल धड़ाके से बोला, जहाँपनाह ! 4 साल पहले मैंने इसकी गणना कराई थी।

केवल दिल्ली नगर में 5685 कौवे निकले थे।  जहांपना , बीरबल से कौए  की स्पष्ट गणना  सुनकर आश्चर्यकित  हुए।  और  बोले  बीरबल ! तुमने  पिछले साल  कब  गणना कराई थी।  उसका प्रमाण दो।  मुझे नंबर  गणना में  शक है।  बीरबल ने कह दिया नहीं।  महाराज  वह गणना बिल्कुल सही है।  क्योंकि इसको मैंने स्वयं किया था।

बादशाह ने कहा इसमें एक भी नंबर की कमी  होगी तो तुम से 5000  हजार सात सौ 30 रूपये  दंड लिए जाएंगे।  आज शाम तक मौका है , भ ली- भाँ ति सोच विचार कर उत्तर दो।  बीरबल ने कहा मेरी गणना  बिल्कुल ठीक है।  फिर से गिनने पर भी इतने ही  निकलेंगे।  कमी  बड़ी  होगी  जब यहां से कुछ  कोए  बाहर रिश्तेदारी  में गए होंगे  या  बाहर से मेहमानी करने के लिए यहाँ  आए होंगे।

You May Like – कंजूश बनिया बनाम भूखा पण्डित – कहानी।

💥औशान सच्चा है  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

एक दिन बादशाह ने बीरबल की  बुद्ध – परीक्षा के नमित बीच गली में एक  मस्त हाथी को छुड़वा दिया।  एक तरफ से घूमता हुआ हाथी चला और दूसरी तरफ से बीरबल आ रहा था।  मोड़ पर एकाएक बीरबल और हाथी की मुठभेड़ हो गई।  बीरबल के पास कोई अस्त्र नहीं था।  हाथी के भय से सब  बाजार बंद थे।  कहीं छुपने का स्थान भी नहीं था।  हाथी बीरबल को देख कर झपट्टा।

एक कुत्तिया गली के बगल में बैठी थी।  बीरबल ने  कुतिया की  दोनों पिछले टांगे पकड़  घुमा कर हाथी के मस्तक पर दे मारी।  चोट खाकर कुत्तिया चिल्लाने लगी।  चिल्लाने और छठ -पटाने से हाथी के मस्तक पर कुत्तिया के नाखूनों से  कुरच   आ गयी ।  वह घबराकर पीछे लौट गया।  इधर अवसर पाकर बीरबल भी जान बचाकर भागा।  बादशाह अपने महल की खिड़की से यह  तमाशा देख रहा था।  उसको बीरबल के  औशान पर बड़ा संतोष हुआ।

You May Like – Akbar Birbal Top 10 Stories in Hindi – अकबर बीरबल की 10 मज़ेदार कहानियां !!!

💥बीरबल को  मु ह पीछे गालियां  !💥

 बीरबल के बादशाह के दरबार बहुतेरे कुछ शत्रु भी थे।  एक बार किसी शत्रु ने रास्ते के  चौराहे पर एक कागज चिपका दिया।  और शुरू से आखिर तक बीरबल को गालियां लिखी गई थी।  उस चौराहे से होकर जो कोई गुजरता उसकी नजर उस कागज पर अचानक पड़ती थी।

वह किसी को गाली देने का नया तरीका देखकर वहां पर बीरबल के शत्रु एंव मित्र दोनों का जमघट लगा रहता था।   इधर बीरबल को भी जब वह समाचार मालूम हुआ तो वह कुछ आदमियों को साथ लेकर उस स्थान को देखने गया।  कागज कुछ ऊंचाई पर चिपका था। जिस कारण उसको पढ़ने में बड़ी देर लगती थी।  बीरबल को  ठीक ना जान पड़ी। (akbar birbal ki kahani in hindi short story)

उसने फौरन नौकर को हुक्म दिया कि इनको वहां से उखाड़कर और नीचे चिपका दें।   हुकुम पाते ही नौकर ने कागज को और नीचे चिपका दिया। फिर बीरबल एक चित्र जनता को संबोधित कर बोला।   यह  कागज आज हम लोगों के मध्यस्थ और भविष्य का इकरारनामा  है।

ऊंचे पर चिपकाया गया था।  इसलिए मैंने इसको और नीचे चिपका दिया है।  ताकि सब लोग आसानी से पढ़ सकें।  मैं अपने विपक्षियों को अहम  सूचना देता हूं कि अब वह मेरे साथ अपनी मनमानी न करें मैं भी उनके साथ अपनी इच्छा अनुसार व्र लूंगा।

 

💥अब तो आन पड़ी है  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

बादशाह अकबरको ठिठोली बड़ी प्रिय थी, 1 दिन नगर के बनिए से ठिठोली करने की इच्छा हुई।  वह दिल्ली के समस्त बनियों को बुलवाकर बोले।  आज से तुम लोगों को नगर की चौकीदारी करनी पड़ेगी।  बेचारे  निकले हुए पेट वाले बनिए  भला क्या चौकीदारी जाने।  वह डरते – डरते बीरबल के पास जा पहुंचे।  और उससे अपना दुखड़ा सुना कर बड़े दुखत हुए।  बीरबल ने  उन्हें तसल्ली  देते हुए कहा।

तुम सब अपनी पगड़ियों को पैर में और पाजामे को सिर पर लपेटकर रात्रि के समय नगर में  चिल्ला – चिल्ला कर  कहते  फिरों ! अब तो आन पड़ी है अब तो आन पड़ी है।  उधर  बादशाह को भी बनिए का चरित्र देखना था। बादशाह  अपना भेष बदलकर नगर में गश्त लगाने के लिए निकले।  बनिया का है नया निराला सॉन्ग देखकर बादशाह पहले तो मन ही मन बहुत हंसी  आई।

फिर अपना भीतर हंसी का भाव छुपाकर ऊपर के मन से बोले।  भाई  क्या बात है।  उन्होंने कहा महाराज !  हम बनिए जन्म से गुण और तेल बेचने का काम सीख आए हैं।  भला चौकीदारी का मर्म क्या जाने।  अगर इतना ही जानते होते तो लोग हमें  बनिया कहकर क्यों पुकारते !  बादशाह ने खुश होकर अपना हुकुम बदल दिया। (akbar birbal ki kahani in hindi short story)

 

💥भंगी भी मुसलमान नहीं  ! (Akbar Birbal Stories In Hindi)💥

1 दिन बादशाह का दिल मजहबी  झोके में हिलोर मार रहा  था।  इसी बीच देवात बीरबल भी वहां आ पहुंचा।  बादशाह ने कहा ! बीरबल तुम मुसलमान  मजहब क्यों नहीं अपना लो।  बीरबल झट  बोला- महाराज!  उस  मजहबी मामले को  खूब समझकर दूसरे दिन जवाब दूंगा। शाम होते ही बीरबल  दरबार से चला गया  और रात  में महतरों  की टोली में आया।  और उनको गुप्त रूप से समझा कर बोला।

तुम लोग खूब सावधान रहो।   बादशाह तुम्हें मुसलमान बनाना चाहते हैं।  यह बात सुनकर सब  महतर   भड़क उठे।  और वे अपना डेपुटेशन बनाकर बादशाह के पास पहुंचे।  उनका सरदार सबसे आगे खड़ा होकर बोला।   महाराज !  हमें बीरबल मुसलमान बना रहे हैं।   हम अपना जीवन  दान भले ही कर देंगे।  परंतु मुसलमान न बनेंगे।  बीरबल बादशाह  को चिढा  कर बोला।

जहांपनाह। अब इतनी छोटी जात,  भंगी   भी  धर्म नहीं छोड़ना चाहते।  तो फिर दूसरों से कैसे इस बात की आशा की जाए।  बादशाह को बीरबल की युक्ति पर हंसी आ गई।  और बादशाह समझ गए कि यह बीरबल  की  ही कोई चाल है।

You May Like  – Top 10 Hindi Stories With Moral – संसार की सर्वश्रेष्ठ 10 प्रेरक कहानियाँ

नमस्कार दोस्तों  “Akbar Birbal Stories In Hindi | अकबर बीरबल की 20 रोचक कहानियां !!! ” आपको अच्छी लगी  हो तो कृपया कमेंट और शेयर जरूर करें  –  इन कहानियों को पढ़ने के लिए आपका बहुत -बहुत  धन्यबाद     !!! आपका दिन मंगलमय हो !!!

1Shares